Wrestlers Protest:पहलवानों की लड़ाई को ‘जाट बनाम ठाकुर’ बनाने की कोशिश, कुश्ती की आड़ में दे रहे नया रंग! – Wrestlers Protest: Some People Trying To Make The Fight Of Wrestlers Between Jat Vs Thakur

Wrestlers Protest: बृजभूषण सिंह (बाएं) और प्रदर्शन कर रहे पहलवान (दाएं)
– फोटो : Agency (File Photo)

विस्तार

Wrestlers Protest: भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ पहलवानों की लड़ाई थमने का नाम नहीं ले रही है। शुक्रवार को पहलवानों के प्रदर्शन का तीसरा दिन है। अभी बैठकों के दौर जारी हैं। इस बीच पहलवानों के मुद्दे ने ‘जाति/समुदाय’ का रंग लेना शुरू कर दिया है। सोशल मीडिया पर ऐसी पोस्ट्स की भरमार है। पहलवानों की लड़ाई को ‘जाट बनाम ठाकुर’ करने का प्रयास किया जा रहा है। हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पहलवानों की लड़ाई को दूसरे रंग के साथ पेश किया जा रहा है। खाप पंचायतें भी अब इस लड़ाई में कूद गई हैं। जंतर-मंतर पर हरियाणा की कई खाप पंचायतों के पहुंचने की संभावना है। गुरुवार को फोगाट खाप ने बैठक की थी। उसके बाद सर्वजातीय सर्व खाप पंचायत ने भी खिलाड़ियों के समर्थन में आवाज बुलंद करने की बात कही।

ट्विटर पर क्षत्रिय वॉयस नाम के एक हैंडल से ट्वीट किया गया है। इसमें लिखा है कि 2019, 2020, 2021 और 2022 के बाद बजरंग पुनिया को एकदम से याद आ चुका है कि बृजभूषण शरण सिंह, इनको और इनकी जाट गैंग को कई सालों से प्रताड़ित कर रहे। और शायद ये प्रताड़ना तब तक न रुकेगी, जब तक भारतीय कुश्ती संघ का अध्यक्ष कोई जाट नहीं बन जाता। इन ट्वीट में बृजभूषण शरण सिंह और पहलवान बजरंग पुनिया के एक साथ फोटो वाले कई ट्वीट एड किए गए हैं। ये ट्वीट पुनिया द्वारा किए गए थे। इन ट्वीट में बजरंग ने बृजभूषण शरण सिंह के प्रति सम्मानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया है।

ट्विटर पर बृजभूषण शरण के समर्थन में ‘स्टैंड विद सिंह’ हैश टैग नाम से एक अभियान शुरू किया गया है। इसमें गिरधर राव ने लिखा है, राजा भैया, धनंजय सिंह, कुलदीप सिंह सेंगर को भारी नुकसान पहुंचाने के बाद क्षत्रिय विरोधी जातिवादी राजनीति मीडिया, जाटों के सहयोग से गरीबों के मसीहा, सात बार के सांसद बृजभूषण शरण सिंह को बर्बाद करने का प्रयास कर रही है। हरियाणा की जाट लॉबी को हजम नहीं हो रहा कि कैसे यूपी के गरीब क्षत्रिय किसान का बेटा कुश्ती संघ का अध्यक्ष बन सकता है। कुश्ती किसी एक राज्य या किसी जाति विशेष की बपौती नहीं है। हिंदू एकता की डफली बजाने वाले क्षत्रियों देखों, कैसे तुम्हें क्षत्रिय होने की वजह से बदनाम किया जा रहा है।

आप नेता नरेश बालयान ने लिखा, भाजपा के जाट नेता बताए कि उनके लिए पार्टी पहले है या समाज। आज देश की की बेटी, जिसने जाट समाज को गौरवान्वित करने का अवसर दिया, वे बेटियां आज भाजपा सांसद कुश्ती फेडरेशन अध्यक्ष बृजभूषण सिंह के कुकर्मों के खिलाफ धरने पर बैठी, लेकिन किसी भी भाजपा के जाट नेताओं का मुंह नहीं खुल रहा है। जाट एसोसिएशन ने अपने ट्वीट में लिखा है, जाट एसोसिएशन पूर्ण रूप से महिला खिलाड़ियों के सम्मान के साथ है। देश के गृह मंत्रालय से आग्रह है कि इस मामले को व्यक्तिगत रूप से संज्ञान में लेकर उचित निर्णय लिया जाए। जो खिलाड़ी देश के लिए सोना ला रहे हैं, अफसोस उनको आज रोना पड़ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *