Kashmir Files row: नादव लापिड के समर्थन में आए IFFI के 3 ज्यूरी मेम्बर्स, बताया ‘आर्टिस्टिक नजरिया’

हाइलाइट्स

नादव लापिड के बयान पर फिर उठी चर्चा.
साथी सदस्यों ने ‘दि कश्मीर फाइल्स’ को बताया प्रोपेगेंडा फिल्म.

मुंबई. इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया (International Film Festival of India) में इजरायली फिल्म निर्माता नादव लापिड (Nadav Lapid) का बयान अब भी सुर्खियों में है. लापिड ने ‘दि कश्मीर फाइल्स’ (The Kashmir Files) को प्रोपेगेंडा फिल्म बताया था. इसके बाद से विवाद शुरू हो गया था. अब लापिड के साथी ज्यूरी मेम्बर्स ने भी उनके बयान का सपोर्ट किया है. बाफ्टा विनर जिनको गोथ (Jinko Gotoh), जो इस ज्यूरी की एक सदस्य हैं, ने लापिड के बयान का समर्थन किया है. गोथ ने लापिड को सपोर्ट करते हुए अपनी बात लिखी है. गोथ के साथ अन्य साथी ज्यूरी सदस्य पास्कल चावांस (Pascale Chavance) और जे​वियर एंगुलो बारर्टन (Javier Angulo Barturen) भी इसमें उनके साथ हैं.

जिनको गोथ ने ट्विटर के जरिए अपनी बात रखी है. जिनको ने लिखा है कि नादिव लापिड के फेस्टिवल की क्लोजिंग सेरेमनी के दौरान 15वीं फिल्म ‘दि कश्मीर फाइल्स’ को लेकर दिए गए बयान में हम उनके साथ हैं. गोथ ने लिखा, ‘हम फिल्म के कंटेट को लेकर किसी तरह की राजनीति नहीं कर रहे. यह हमारा आर्टिस्टिक नजरिया है. यह हम सभी के लिए बेहद दुखद है कि इस फेस्टिवल को राजनीति और पर्सनल अटैक के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है. इस तरह का ज्यूरी का कभी कोई इरादा नहीं था.’

फोटो साभार: twitter@JinkoGotoh)

ये कहा था लापिड ने…
गोथ ने अपनी बात लिखने से पहले लापिड के बयान को कोट किया. लापिड ने कहा था, ‘हम सभी 15वीं फिल्म ‘दि कश्मीर फाइल्स’ को देखकर परेशान और आश्चर्यचकित हैं. इसे देखकर हमें अनुभव हुआ कि यह एक वल्गर प्रोपेगेंडा फिल्म है. साथ ही यह कला के सेक्शन में प्रतिस्पर्धा करने के लिए उपयुक्त नहीं है.’

Tags: The Kashmir Files, Vivek Agnihotri



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *