Jammu Kashmir SAD president protest in Lakhanpur for not getting permission to enter Jammu and Kashmir-शिअद अध्यक्ष सिमरनजीत सिंह मान को जम्मू-कश्मीर में नहीं मिली एंट्री, लखनपुर में रातभर किया प्रदर्

Image Source : PTI
SAD-A leader Simranjit Singh Mann(File Photo)

Highlights

  • “मैं खुद देखना चाहता था कि J&K में अनुच्छेद 370 के समाप्त होने के बाद क्या हो रहा है”
  • “मैं एक सिख हूं, इसलिए भाजपा और RSS मुझे जम्मू-कश्मीर में आने नहीं दे रहे”
  • “मैं जमीनी स्थिति को दुनिया के सामने लाना चाहता था”

Jammu Kashmir: पंजाब के संगरूर(Sangrur) से सांसद और शिरोमणि अकाली दल (ए) के अध्यक्ष सिमरनजीत सिंह मान(Simranjit Singh Mann) को जम्मू-कश्मीर जानें की इजाजत नहीं मिली। अधिकारियों ने बताया कि शिअद अध्यक्ष ने जम्मू-कश्मीर में एंट्री न मिलने पर लखनपुर में रातभर प्रदर्शन किया। लखनपुर, जम्मू-कश्मीर की पंजाब से लगती सीमा के पास स्थित है। सांसद मान को कठुआ के जिलाधिकारी राहुल पांडे के आदेश पर केंद्र शासित प्रदेश में प्रवेश करने से पहले ही रोक दिया गया था। इसके बाद मान व उनके समर्थकों ने प्रदर्शन किया। 

‘जन शांति भंग होने की आशंका से लगाई रोक’

जिलाधिकारी राहुल पांडे ने IPC की धारा 144 के तहत आदेश जारी करते हुए कहा था कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (SSP) द्वारा उनके संज्ञान में लाया गया कि मान जम्मू-कश्मीर आने वाले हैं और उनकी यात्रा से ‘जन शांति भंग’ होने की आशंका है। पांडे ने आदेश में कहा, ‘‘ इसलिए, मैं दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत मुझे मिले अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए मान के कठुआ क्षेत्र में प्रवेश करने पर रोक लगाता हूं।’’ 

‘निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने की धमकी दी’

जिलाधिकारी पांडे और SSP रमेश कोतवाल रात को सिमरनजीत सिंह मान से मिलने पहुंचे और उनसे वापस जाने का अनुरोध किया, लेकिन मान ने लौटने से इनकार कर दिया। एक सूत्र ने बताया कि मान ने उन्हें एंट्री करने से रोकने की उचित वजह बताने को कहा। उन्होंने निषेधाज्ञा का उल्लंघन करने की धमकी भी दी और अधिकारियों से उन्हें गिरफ्तार करने को कहा। कठुआ प्रशासन के फैसले की निंदा करते हुए मान ने पहले कहा था, ‘‘मैं एक सिख हूं इसलिए भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) और RSS (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) मुझे जम्मू-कश्मीर में आने नहीं दे रहे।’’ 

‘मैं कश्मीर के लोगों से मिलने आया था’

शिअद अध्यक्ष ने  कहा, ‘‘ जम्मू-कश्मीर में कोई विधानसभा नहीं है, वहां सेना का शासन है। कोई लोकतंत्र नहीं है। मैं कश्मीर के लोगों से मिलने आया था, मैं खुद देखना चाहता था कि वहां (अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त किए जाने के बाद) क्या हो रहा है। मैं जमीनी स्थिति को दुनिया के सामने लाना चाहता था।’’ पंजाब और कठुआ से मान के समर्थकों के उनके पास धरना स्थल पर पहुंचने की योजना बनाने की सूचना मिलने के बाद प्रशासन ने लखनपुर में सुरक्षा बढ़ा दी है। अधिकारियों ने बताया कि निषेधात्मक आदेशों को लागू करने और कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए एहतियातन अतिरिक्त तैनाती की गई है। 

Latest India News

function loadFacebookScript(){
!function (f, b, e, v, n, t, s) {
if (f.fbq)
return;
n = f.fbq = function () {
n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments);
};
if (!f._fbq)
f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s);
}(window, document, ‘script’, ‘//connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘1684841475119151’);
fbq(‘track’, “PageView”);
}

window.addEventListener(‘load’, (event) => {
setTimeout(function(){
loadFacebookScript();
}, 7000);
});

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *