साउथ अफ्रीका को हराकर भारत टी20 वर्ल्ड कप में उतरा और बना था चैंपियन, 15 साल बाद फिर बड़ा मौका

हाइलाइट्स

टीम इंडिया ने 2007 में एकमात्र बार जीता है टी20 वर्ल्ड कप
रोहित शर्मा पहली बार वर्ल्ड कप में कप्तानी करते हुए दिखेंगे

नई दिल्ली. रोहित शर्मा (Rohit Sharma) इस महीने शायद अपने क्रिकेट करियर के सबसे बड़े इम्तिहान में उतरेंगे. वे पहली बार वर्ल्ड कप में कप्तानी करते हुए दिखेंगे. टी20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup 2022) के मुकाबले 16 अक्टूबर से ऑस्ट्रेलिया में शुरू हो रहे हैं. यानी टूर्नामेंट के शुरू होने में 2 हफ्ते से भी कम का समय बचा है. भारत ने इस बीच पहले डिफेंडिंग चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को टी20 सीरीज में 2-1 से हराकर और फिर साउथ अफ्रीका पर 2-0 की अजेय बढ़त बनाकर फैंस को खुश होने का मौका दे दिया है. इससे टीम ने साफ कर दिया है कि वह वर्ल्ड कप के लिए पूरी तरह तैयार है. कई पूर्व दिग्गज भारतीय टीम को टूर्नामेंट का प्रबल दावेदार भी बता रहे हैं. इसमें टीम इंडिया के पूर्व कोच रवि शास्त्री भी शामिल हैं. यहां फैंस को बताना जरूरी है कि भारतीय टीम 2007 टी20 वर्ल्ड कप में (T20 World Cup 2007) साउथ अफ्रीका को हराकर ही उतरी थी और एमएस धोनी की अगुआई में पहले सीजन के खिताब पर कब्जा किया था. क्या यह संयोग 15 साल बाद फिर बन रहा है. आइए आपको इस बारे में विस्तार से बताते हैं:

टी20 वर्ल्ड कप का पहला सीजन सितंबर 2007 में साउथ अफ्रीका में खेला गया था. उस समय इंटरनेशनल क्रिकेट का सबसे छोटा फॉर्मेट आया ही था. भारतीय टीम ने टी20 वर्ल्ड कप से पहले सिर्फ एक ही टी20 इंटरनेशनल का मुकाबला खेला था. यानी खिलाड़ियों के पास अधिक अनुभव नहीं था. वर्ल्ड कप से पहले भारत ने एकमात्र टी20 मैच 1 दिसंबर 2006 को साउथ अफ्रीका के खिलाफ जोहानिसबर्ग में खेला था. दिनेश कार्तिक ने आतिशी बल्लेबाजी करके टीम को जीत दिलाई थी और वे प्लेयर ऑफ द मैच भी बने थे. वे मौजूदा टी20 वर्ल्ड कप के लिए चुनी गई 15 सदस्यीय टीम में भी शामिल हैं.

गेंदबाजों ने किया बेहतरीन प्रदर्शन
मैच में साउथ अफ्रीका के कप्तान ग्रीम स्मिथ ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने का फैसला किया. लेकिन उसके बल्लेबाज कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर सके. टीम 20 ओवर में 9 विकेट पर सिर्फ 126 रन ही बना सकी थी. एल्बी मॉर्केल ने 18 गेंद पर सबसे अधिक 27 रन बनाए. जस्टिन कैंप ने 22 और जोहान वान डर वथ ने 21 रन का योगदान दिया. टीम इंडिया की ओर से गेंदबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया. जहीर खान और अजीत आगरकर को 2-2 विकेट मिले. एस श्रीसंथ, सचिन तेंदुलकर और हरभजन सिंह ने एक-एक विकेट झटका.

कप्तान सहवाग ने दिलाई तेज शुरुआत
इस मैच में टीम की कप्तानी वीरेंद्र सहवाग कर रहे थे. वे और सचिन ओपनिंग करने उतरे. हालांकि सचिन सिर्फ 10 रन ही बना सके. सहवाग ने 29 गेंद पर 34 रन बनाकर स्कोर को 50 रन के पार पहुंचाया. 5 चौका और एक छक्का जड़ा. नंबर-3 पर उतरे दिनेश मोंगिया ने 45 गेंद पर 38 रन जबकि एमएस धोनी खाता नहीं खोल सके. लेकिन दिनेश कार्तिक ने एक छोर से टीम को संभाले रखा. वे 28 गेंद पर 31 रन बनाकर नाबाद रहे. 3 चौका और एक छक्का लगाया. सुरेश रैना भी 4 गेंद पर 3 रन बनाकर नाबाद रहे. टीम ने लक्ष्य को 19.5 ओवर में 4 विकेट पर हासिल कर लिया. टीम को अंतिम ओवर में जीत के लिए 9 रन बनाने थे. बाएं हाथ के स्पिनर रॉबिन पीटरसन की पहली गेंद पर कार्तिक ने छक्का लगाकर मैच को भारत की झोली में डाल दिया था.

भारत वनडे और टी20 वर्ल्ड कप जीतने वाला पहला देश, अब तक इतनी टीमें रच चुकी हैं इतिहास

2007 में हुए टी20 वर्ल्ड कप से पहले सीनियर खिलाड़ी टूर्नामेंट से हट गए थे. एमएस धोनी को टीम की कमान दी गई. टीम ने फाइनल में पाकिस्तान को हराकर पहले सीजन का खिताब जीता था. टूर्नामेंट में टीम ने सिर्फ एक मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ गंवाया. अब 15 साल बाद टीम फिर साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी20 सीरीज में जीत के साथ वर्ल्ड कप में उतर रही है. ऐसे में क्या टीम इंडिया का वर्ल्ड कप जीतने का लंबा इंतजार खत्म होगा, यह अगले कुछ दिनों में पता चल जाएगा.

Tags: India vs South Africa, Ms dhoni, Rohit sharma, T20 World Cup, T20 World Cup 2007, T20 World Cup 2022, Team india

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *