भागीरथ प्‍लेस अग्निकांड में जलीं 250 से ज्‍यादा दुकानें, कैट करेगा व्‍यापारियों की मदद

नई दिल्‍ली. दिल्ली के भगीरथ प्‍लेस में गुरुवार की रात हो हुए आग के तांडव ने 250 से ज्‍यादा दुकानों को लील लिया है. इसकी वजह से व्‍यापारियों को बड़े नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है. हालांकि इस दुर्भाग्यपूर्ण आग की घटना पर कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेड्स ( कैट) के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष विपिन आहूजा और प्रदेश महामंत्री आशीष ग्रोवर ने बेहद दुख जताया है और कहा है कि विकट संकट की इस घड़ी में दिल्ली के सभी व्यापारी आग से पीड़ित व्यापारियों के साथ मजबूती से खड़े हैं और पीड़ित व्यापारियों को हर संभव सहायता देने में पीछे नहीं हटेंगे.

आशीष ग्रोवर जो भागीरथ पैलेस में ही स्थित दवा बाजार की एसोसिएशन दिल्ली ड्रग ट्रेडर्स एसोसिएशन के महामंत्री भी हैं, आग की खबर मिलते ही सबसे पहले मौके पर पहुंचे. इस दौरान उन्‍होंने बताया कि इस घटना से दिल्ली के सभी व्यापारियों का मन बेहद व्यथित है और गमगीन है. अभी तक कितनी दुकानें आग से प्रभावित हुई हैं उसका अंदाजा लगाना मुश्किल है पर जिस तरह की आग का स्वरूप था उसको देखते हुए लगभग 250 दुकानों के आग से प्रभावित होने की आशंका है. इसलिए इस आग से कितना नुक़सान हुआ, उसका आंकलन भी अभी लगाया जाना मुश्किल है.

उन्‍होंने आगे कहा कि एक बार स्थिति संभलने के बाद कैट दिल्ली इलेक्ट्रिकल ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय शर्मा से सलाह कर इस क्षेत्र के सभी व्यापारी एसोसिएशनों की एक मीटिंग बुलाएगा जिसमें इस विषय पर प्रभावित व्यापारियों की मदद करने के विभिन्न स्वरूपों पर चर्चा होगी और व्यापारियों को दिल्ली सरकार, केंद्र सरकार आदि से समुचित सहायता दिलाने में कैट पूरी ताकत लगा देगा. ग्रोवर ने कहा की कैट का यह संकल्प है क‍ि धन के अभाव में किसी व्यापारी को भी टूटने नहीं देंगे.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

राज्य चुनें

दिल्ली-एनसीआर

राज्य चुनें

दिल्ली-एनसीआर

भागीरथ प्लेस देश के पुराने थोक बाज़ारों में से एक नामचीन बाजार है जिसमें इलेक्ट्रिकल, दवाई, रेडियो, रेडियो स्पेयर पार्ट्स, इलेक्ट्रॉनिक्स, सर्जिकल इक्वीपमेंट्स, फ़ार्मा रॉ मैटेरियल आदि के थोक बाजार हैं जो देश भर में सामान की सप्लाई करते हैं और देश के प्रमुख विभिन्न व्यापारों के वितरण केंद्र हैं.

Tags: Confederation of All India Traders, Fire

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *