दुरंतो एक्सप्रेस में डकैती के बाद रेलवे कर रहा विचार, इन प्रीमियर ट्रेनों को मिलेगी विशेष सुरक्षा! Indian Railways considering special security in premier trains after Duronto robbery

Image Source : FILE PHOTO
Indian Railways

Indian Railways: बिहार में नई दिल्ली-हावड़ा दुरंतो एक्सप्रेस में रविवार को हुई सशस्त्र डकैती के बाद रेल मंत्रालय ने राजधानी, शताब्दी और दुरंतो जैसी प्रमुख ट्रेनों में रेलवे सुरक्षा बल (RPF) के कमांडो की फिर से तैनाती पर गंभीरता से विचार कर रहा है। इस ट्रेन को रात में सरकारी रेलवे पुलिस (GRP) की सशस्त्र टुकड़ियों की ओर से एस्कॉर्ट किया जाना था। यात्रियों ने हालांकि शिकायत की है कि जीआरपी दल पटना स्टेशन पर उतरे, जहां रविवार को दोपहर करीब एक बजे ट्रेन पहुंची।

बंदूक की नोक पर कई डिब्बों में यात्रियों का सामान लूट लिया

हावड़ा के रास्ते में पटना स्टेशन से निकलते ही 20 हथियारबंद लुटेरे ट्रेन में सवार हो गए और बंदूक की नोक पर 7-8 डिब्बों में यात्रियों का सामान लूट लिया। ट्रेन के अपने गंतव्य पर पहुंचने के बाद कई यात्रियों ने बेहतर सुरक्षा की मांग को लेकर हावड़ा स्टेशन पर प्रदर्शन किया।

‘लोग ऐसी ट्रेनों में टिकट के लिए बहुत अधिक भुगतान करते हैं’

हावड़ा में उतरने के बाद एक यात्री ने कहा, “यह बेहद डरावना था। अपराधियों ने यात्रियों पर बंदूकें तान दीं और जो कुछ वे ले जा सकते थे, लूट कर ले गए। अगर दुरंतो एक्सप्रेस में ऐसा हो सकता है, तो दूसरी ट्रेनों का क्या? लोग ऐसी ट्रेनों में टिकट के लिए बहुत अधिक भुगतान करते हैं और पर्याप्त सुरक्षा के पात्र हैं। रेलवे का दावा है कि कानून-व्यवस्था राज्य सरकारों का कर्तव्य है, लेकिन राज्यों का कहना है कि उनके पास पर्याप्त जनशक्ति नहीं है। इन सबका खामियाजा यात्रियों को क्यों भुगतना पड़े।”

‘मामले को गंभीरता से लिया गया, इस पर चर्चा शुरू हो गई है’

रेलवे बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, इस मामले को गंभीरता से लिया गया है और इस पर चर्चा शुरू हो गई है कि क्या कुछ राज्यों से गुजरने वाली ऐसी ट्रेनों में आरपीएफ की विशेष टीमों को एंड-टू-एंड तैनात किया जा सकता है। पूर्व मध्य रेलवे के वरिष्ठ आरपीएफ अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी गई है। एक समय में नई दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस हावड़ा और सियालदह से जो बिहार से होकर गुजरती थी, आरपीएफ कमांडो की ओर से एस्कॉर्ट किया जाता था। जब इस तरह के एस्कॉर्ट प्रदान किए गए, तो किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली। नीतीश कुमार के बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में पदभार संभालने के बाद कमांडो को वापस ले लिया गया और कानून-व्यवस्था की स्थिति में सुधार हुआ।

Latest India News

function loadFacebookScript(){
!function (f, b, e, v, n, t, s) {
if (f.fbq)
return;
n = f.fbq = function () {
n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments);
};
if (!f._fbq)
f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s);
}(window, document, ‘script’, ‘//connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘1684841475119151’);
fbq(‘track’, “PageView”);
}

window.addEventListener(‘load’, (event) => {
setTimeout(function(){
loadFacebookScript();
}, 7000);
});

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *