त्योहार के मौके पर ट्रेन में रिजर्वेशन नहीं मिल रहा? IRCTC की ये स्कीम दिलवा सकती है कंफर्म टिकट। Indian Railways Not getting reservation in train This scheme of IRCTC can get you confirmed tickets

Image Source : FILE
Indian Railways

Highlights

  • त्योहार के मौके पर ट्रेन में मिल सकता है कंफर्म टिकट
  • रेलवे की विकल्प स्कीम से मिलेगा फायदा
  • अन्य ट्रेनों में टिकट कंफर्मेशन की उम्मीद बढ़ेगी

Indian Railways: त्योहारों के मौके पर ट्रेन में कंफर्म रिजर्वेशन मिलना रेल यात्रियों के लिए बड़ी चुनौती होती है। ऐसा इसलिए भी होता है क्योंकि त्योहारों पर लोग काफी यात्रा करते हैं, ऐसे में कंफर्म टिकट नहीं मिल पाती। इस परेशानी का निपटारा रेलवे की विकल्प स्कीम (VIKALP Scheme) से किया जा सकता है। यहां हम आपको बताएंगे कि ये विकल्प स्कीम क्या है और इसका फायदा कैसे मिलता है। 

क्या है विकल्प स्कीम?

ऑनलाइन बुकिंग में  विकल्प स्कीम का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें एक से ज्यादा ट्रेनों में टिकट खरीदने का चुनाव किया जाता है। ऐसे में अगर एक ट्रेन में टिकट कंफर्म नहीं होता तो दूसरी या अन्य ट्रेन में कंफर्मेशन की उम्मीद बढ़ जाती है। इसे रेलवे की विकल्प स्कीम कहते हैं। 

गौरतलब है कि आजकल रेल यात्री ऑनलाइन टिकट कराते हैं। ऑफलाइन टिकट बुकिंग कराने वालों की संख्या ऑनलाइन वालों की अपेक्षा कम है। ऐसे में सामान्य रूप से अगर आपका टिकट कंफर्म नहीं होता है तो इसे रद्द किया जाता है और आपको रिफंड मिल जाता है। लेकिन विकल्प स्कीम से दूसरी ट्रेन में कंफर्म टिकट मिलने की संभावना रहती है। 

कैसे मिलता है विकल्प स्कीम का फायदा

विकल्प स्कीम का फायदा लेने के लिए जब भी रेल यात्री टिकट बुक करें तो वह VIKALP स्कीम को जरूर भरें। इसमें आपको उन ट्रेनों को सिलेक्ट करना होगा, जो आपके रूट पर जा रही हैं। ऐसे में अगर चुनी हुई ट्रेन में आपको कंफर्म टिकट नहीं मिला तो अन्य सिलेक्टेड ट्रेनों में आपको टिकट मिलने की संभावना रहेगी। आप अन्य ट्रेनों के लिए कुल 7 ऑप्शन सिलेक्ट कर सकते हैं।

Latest India News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। National News in Hindi के लिए क्लिक करें भारत सेक्‍शन

function loadFacebookScript(){
!function (f, b, e, v, n, t, s) {
if (f.fbq)
return;
n = f.fbq = function () {
n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments);
};
if (!f._fbq)
f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s);
}(window, document, ‘script’, ‘//connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘1684841475119151’);
fbq(‘track’, “PageView”);
}

window.addEventListener(‘load’, (event) => {
setTimeout(function(){
loadFacebookScript();
}, 7000);
});

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *