गोविंदा संग रोमांस कर रातों रात हिट हुई थी ये एक्ट्रेस, जगपति बाबू के साथ भी लड़ाया इश्क; पहचानते हैं आप?

90 के दशक की एक्ट्रेस रितु शुवपुरी (Ritu Shivpuri) आज भले ही पर्दे से गायब हैं मगर उनकी गोविंदा के साथ कैमिस्ट्री लोगों को आज भी याद है. फिल्म ‘आंखें’ में ‘लाल दुपट्टे वाली’ गाने से रातों-रात लाइमलाइट में आई एक्ट्रेस इन 30 सालों में काफी बदल गई हैं. उनकी तस्वीरों को देखकर तो उन्हें पहचान पाना भी काफी मुश्किल होता है. अब आप सोच रहे होंगे कि आज हम अचानक से रितु शिवपुरी के बारे में कैसे बात कर रहे हैं?

दरअसल, रितु आज अपना 51वां जन्मदिन है. उनका जन्म 22 जनवरी, 1972 को हुआ था. बॉलीवुड की दुनिया में उन्होंने गोविंदा की फिल्म से कदम रखा था और काफी नेम और फेम कमाया था. उन्होंने ना केवल हिंदी सिनेमा जगत में बल्कि साउथ में भी काम किया था. करीब 12 सालों तक फिल्मों में किस्मत आजमाने के बाद एक्ट्रेस ने अंत में सिनेमाई पर्दे से दूरियां बना ली थी. बड़े पर्दे से भी दूरियां बना लेना इसकी वजह कोई और नहीं बल्कि उनके पति ही थे. दरअसल, जब बड़े पर्दे पर रितु को निराशा हाथ लगी तो उन्होंने 2006 में इससे दूरियां बना ली और हरि वेंकट से शादी कर ली. एक समय पर उनकी लाइफ में ऐसा वक्त आया जब उन्हें बड़ी कठिनाइयों से गुजरना पड़ा. उनके पति वेंकट को पीठ का ट्यूमर हो गया था. ऐसे में उन्होंने एक्टिंग की जगह पति को चुना और पूरी तरह से इंडस्ट्री को छोड़ दिया था. इस शादी से उनके तीन बच्चे हैं.

आपको बता दें कि रितु शिवपुरी टीवी जगत की मशहूर एक्ट्रेस सुधा शिवपुरी की बेटी हैं. बड़े पर्दे से दूर एक्ट्रेस अब ज्वेलरी डिजाइन करती हैं. एक्टिंग के बाद उन्होंने इसी में अपना करियर बना लिया.

जगतपति बाबू संग भी रोमांस कर चुकी हैं रितु
रितु शुवपुरी ने अपने करियर में ना केवल हिंदी बल्कि साउथ फिल्मों में भी काम किया है. इसमें उनकी 1997 में रिलीज हुई तेलुगू फिल्म ‘दोंगाता’ (Dongaata) और कन्नड़ फिल्म ‘जेड’ (z) थी. एक्ट्रेस तेलुगू फिल्म ‘दोंगाता’ में एक्टर जगतपति बाबू के साथ रोमांस करते हुए नजर आई थीं. हालांकि, उन्हें साउथ से भी कोई खास पहचान नहीं मिल पाई थी. उन्होंने फिल्मों के साथ-साथ टीवी सीरियल्स में भी काम किया था. इसमें 2017 में आए टीवी शो ‘इस प्यार को क्या नाम दूं’ के तीसरे सीजन में काम किया था. इसके बाद उन्हें 2019 में ‘नजर’ और ‘विष’ जैसे टीवी सीरियल में भी देखा गया था.

Tags: Govinda, South cinema

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *