गन्ना मूल्य :इस हफ्ते खत्म हो सकता है इंतजार, लोकसभा चुनाव के लिए मूल्य वृद्धि जरूरी बता रहे नेता – Sugar Cane Price May Increase In Uttar Pradesh.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार

पेराई सत्र शुरू हुए तीन महीने से अधिक हो गया, पर सरकार ने 2022-2023 का गन्ना मूल्य अब तक घोषित नहीं किया है। वहीं, किसान लागत बढ़ने का हवाला देकर मूल्य वृद्धि की मांग कर रहे हैं। उधर, गन्ना मंत्री लक्ष्मीनारायण चौधरी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ चर्चा कर सप्ताह भर में मूल्य बढ़ोतरी घोषित करने को कहा है।

प्रदेश में चल रहीं 120 चीनी मिलों से साठ लाख से ज्यादा गन्ना किसान जुड़े हैं। अभी तक गन्ना मूल्य घोषित न होने के कारण मिल पिछले साल के 340-350 रुपये प्रति क्विंटल की दर से भुगतान कर रहे हैं। किसानों की मांग को देखते हुए गन्ना क्षेत्र के सांसद समेत अन्य नेता अगले वर्ष लोकसभा चुनाव को देखते हुए मूल्य वृद्धि को जरूरी बता रहे हैं। उनका तर्क है कि यदि अगले वर्ष मूल्य बढ़ाया गया तो उसे चुनाव के कारण हुई बढ़ोतरी कहा जाएगा। इसलिए इस वर्ष कुछ न कुछ मूल्य बढ़ोतरी अवश्य की जाए। 

पूर्व अध्यक्ष गन्ना समिति विक्रम जोत डॉ. अरविंद सिंह का कहना है कि पेराई सत्र शुरू हो चुका है। मिलों का लाभ बढ़ने और किसानों की लागत को देखते हुए मूल्य वृद्धि जरूरी है। 

450 रुपये हो गन्ने का दाम : टिकैत

भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैत का कहना है कि पंजाब ने गन्ने का मूल्य 380 रुपये प्रति क्विंटल घोषित किया है। यूपी में 450 रुपये का रेट तो होना ही चाहिए। इससे कम पर किसानों को नुकसान है, जबकि एथनॉल नीति से भी मिलों को लाभ हो रहा हैं।

बढ़ना चाहिए मूल्य : बालियान 

केंद्रीय राज्यमंत्री पशुधन डॉ. संजीव बालियान का कहना है कि मूल्य वृद्धि पर कई बार गन्ना मंत्री से बात हुई है। जो भी बढ़े पर दाम बढ़ना जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *