काजू-बादाम से ज्‍यादा हेल्‍दी हैं तिल-मूंगफली, कैंसर को भी रोकने की है क्षमता

काजू-बादाम खाना किसे पसंद नहीं है. खासतौर पर विंटर में तो मेवाएं या ड्राई फ्रूट न स्‍वाद के लिए बल्कि हेल्‍थ के लिए भी अच्‍छे माने जाते हैं. हालांकि इसी दौरान कुछ देसी और सस्‍ती मेवाएं जैसे मूंगफली, तिल, खरबूज और तरबूज के बीज भी बाजार में आ जाते हैं और तिल-मूंगफली की बनी मिठाइयां, चिक्‍की, गजक आदि ठंड में खूब खाए जाते हैं. स्‍वाद की बात अलग है लेकिन जब हेल्‍थ की बात आती है तो लोगों को लगता है कि 800-1000 रुपये प्रति किलोग्राम मिलने वाले काजू-बादाम हेल्‍थ के लिए ज्‍यादा फायदेमंद होते हैं, बजाय 100-150 रुपये किलो मिलने वाली सस्‍ती मूंगफली या तिल आदि के. अगर आपको भी ऐसा लगता है तो आज से आपको अपनी ये सोच बदलने की जरूरत है.

दिल्‍ली स्थि‍त अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान की चीफ डाइटीशियन डॉ. परमीत कौर कहती हैं कि स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ काजू को हेल्थ के लिए बेहतर मानते ही नहीं हैं, न ही इसे सुपर ड्राई फ्रूट या सुपर नट की केटेगरी में शामिल करते हैं. हां बादाम और अखरोट को जरूर स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहतर मानते हैं और मरीजों के अलावा सामान्‍य लोगों को भी विंटर में बिना भिगोए लेकिन समर में भिगोकर बादाम और अखरोट खाने की सलाह देते हैं लेकिन ध्‍यान देने वाली बात ये है कि विंटर में काजू-बादाम से भी ज्‍यादा सस्‍ती और बेहतर देसी मेवाएं मिलती हैं.

डॉ. परमीत कहती हैं, ‘बतौर डाइटीशियन मुझे लगता है कि काजू-बादाम के बजाय सर्दी की मेवाएं जैसे मूंगफली, तिल, खरबूज के बीज खाना हेल्‍थ के लिए ज्‍यादा बेहतर है. तिल-मूंगफली आदि में जबर्दस्‍त कैलोरी होती है. ये प्रोटीन और कैल्शियम, विटामिंस जैसे तत्‍वों से भरपूर होते हैं. न केवल हेल्‍थ बेनिफिट बल्कि मनी बेनिफिट में भी ये ऊपर हैं. अगर कीमत देखें तो एक किलोग्राम काजू या बादाम की कीमत में करीब 7-8 किलोग्राम मूंगफली या 3-4 किलोग्राम तक तिल आ सकते हैं. वहीं इनमें पोषण तत्‍व या न्‍यूट्रिएंट्स की मात्रा भी खूब है. ये भारत में मौजूद बहुत बड़ी आबादी की पहुंच में हैं. इतना ही नहीं ये कई गंभीर बीमारियों को भी बढ़ने से रोकते हैं.’

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

राज्य चुनें

दिल्ली-एनसीआर

राज्य चुनें

दिल्ली-एनसीआर

डॉ. परमीत कहती हैं कि तिल में जो गुण होता है वह काजू-बादाम में भी नहीं होता. इसमें प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर, फास्फोरस, आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन-बी1, कॉपर व जिंक आदि तो पाए ही जाते हैं, इसके साथ ही सबसे जरूरी सेसमीन और सेसमोलिन नाम के दो जरूरी कंपाउंड भी इसमें होते हैं जो कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोक सकते हैं. इसके अलावा यह हार्ट डिजीज को भी रोकने में कारगर है क्‍योंकि इसमें फाइटोस्टेरॉल, पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड होता है जो शरीर में कोलेस्ट्रोल को कम करता है.

डॉ. परमीत कहती हैं कि मूंगफली यानि पीनट सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होती है. इसमें भी डायबिटीज, कैंसर, हार्ट आदि की बीमारियों से लड़ने की क्षमता होती है. इसका पॉलीफेनोलिक एंटीऑक्सिडेंट कैंसर के खतरे को कम करता है. मूंगफली में हेल्‍दी फैट, प्रोटीन, फाइबर, मैग्‍नीशियम, फैटी एसिड आदि तत्‍व पाए जाते हैं. यह न केवल शरीर को बेहतर पोषक तत्‍व देती है बल्कि शरीर में खराब कोलेस्‍ट्रॉल को घटाकर अच्‍छे कोलेस्‍ट्रॉल को भी बढ़ाती है. हालांकि एक मुठ्ठी मूंगफली रोजाना खाना हेल्‍थ के लिए अच्‍छा माना जाता है.

खरबूज के बीच में भी सस्‍ती मेवा है लेकिन काजू-बादाम के मुकाबले दमदार हैं. ये विटामिंस और मिनरल्‍स का भंडार हैं. खासतौर पर विटामिन ए, सी और ई. इनमें भी टाइप टू डायबिटीज, बीपी, हार्ट संबंधी बीमारियों से बचाने की गजब क्षमता होती है. इसमें खट्टे फलों वाले गुण जैसे कफ-कोल्‍ड और फ्लू से बचाने की भी क्षमता होती है.

Tags: Health News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *