कभी ‘खीर’ बनाने वाले उपेंद्र कुशवाहा अब पका रहे ‘खिचड़ी’! दिल्ली में भाजपा नेताओं से मीटिंग के बाद बढ़ी सियासी हलचल

हाइलाइट्स

उपेंद्र कुशवाहा के साथ भाजपा नेताओं की मुलाकात.
बिहार भाजपा के तीन नेताओं की कुशवाहा से मीटिंग.
बिहार के सियासी समीकरण में हो सकता है उलटफेर.

पटना. बिहार में महागठबंधन में चल रही खींचतान के बीच जदयू नेता और पार्टी के संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा की भाजपा नेताओं से हुई मुलाकात ने सियासी पारा बढ़ा दिया है. कुशवाहा से भाजपा नेताओं की मुलाकात के बाद इस बात की चर्चा तेज हो गई है. उपेंद्र कुशवाहा अब नीतीश कुमार का साथ छोड़ भाजपा के साथ आने की तैयारी में हैं.

बीजेपी प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल, संजय टाइगर और योगेंद्र पासवान ने दिल्ली एम्स के प्राइवेट वार्ड में उपेंद्र कुशवाहा से मुलाकात की. खास बात यह रही कि यह मुलाकात गुप्त रूप से नहीं; बल्कि एक खास एजेंडे के तहत की गई. भाजपा नेताओं ने पहले उपेंद्र कुशवाहा से मुलाकात की उनके साथ बैठकर बिहार के सियासी हलकों पर चर्चा हुई और बाद में मुलाकात की साझा तस्वीर भी जारी की गई.

दिल्ली एम्स में उपेंद्र कुशवाहा से मुलाकात के बाद बीजेपी के नेता प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि ये मुलाकात औपचारिक थी. उपेंद्र कुशवाहा एम्स में भर्ती थे इसलिए उनका कुशल क्षेम पूछने भाजपा के नेता गए थे. प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि उपेंद्र कुशवाहा भाजपा और एनडीए के पुराने सहयोगी रहे हैं, इसलिए वे लोग एम्स में जाकर उपेंद्र कुशवाहा का हालचाल जाना.

आपके शहर से (पटना)

हालांकि प्रेम रंजन पटेल यह भी कहते हैं कि उपेंद्र कुशवाहा से इस दौरान कुछ बातें भी हुईं. बातें क्या हुईं इसकी जानकारी बीजेपी के नेताओं द्वारा नहीं दी जा रही है. लेकिन, इतना साफ दिखने लगा है उपेंद्र कुशवाहा की नजदीकी एनडीए और भाजपा से बढ़ने लगी है.

बता दें कि कभी राजद के साथ नजदीकियों के बाद उपेंद्र कुशवाहा का ‘खीर’ वाला बयान काफी मशहूर रहा था. तब उन्होंने कहा था कि कुशवाहा का चावल और यादवों का दूध मिल जाए तो ‘खीर’ बड़ा स्वादिष्ट बनेगा. हालांकि, बाद में राजद का साथ छोड़ उन्होंने अपनी पार्टी रालोसपा को जदयू में मिला दिया था. मगर जदयू के महागठबंधन के साथ आने से वे असहज दिख रहे हैं. इस बीच उनके लगातार इनकार किए जाने के बाद भी अब एक बार फिर उनके एनडीए में आने के संकेत मिल रहे हैं. यानी बिहार में खीर नहीं अब नई सियासी खिचड़ी पक सकती है.

Tags: Bihar News, Bihar politics, Upendra kushwaha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *