अलाया अपार्टमेंट हादसा:लाइव सेंसर की मदद से मलबे में दबे लोगों को खोजा, 360 डिग्री पर घूमते हैं कैमरे – Lucknow Building Collapse People Buried Under The Debris Were Searched With The Help Of Live Sensors

Lucknow Building Collapse
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार

लखनऊ के अयाला अपार्टमेंट हादसे में हाईटेक तकनीक की मदद से लोगों को बचाने में मदद मिली। एनडीआरएफ के कमांडेंट एमके शर्मा ने बताया कि लाइव सेंसर से पता चल जाता है कि किसी बंद जगह पर कोई इंसान है या नहीं। इस कारण सबसे पहले मलबे में छेद कर-कर इन सेंसर को लटकाया गया। 

इसके बाद जहां लोगों के होने की पुष्टि हुई, वहां विक्टिम लोकेशन (वीएल) कैमरे लटकाए गए, जो 360 डिग्री पर घूमते हैं। इससे फंसे लोगों की लोकेशन पता चलने के बाद छत की स्लैब काटकर लोगों को निकाल लिया गया।

रेस्क्यू में एनडीआरएफ की कुल चार टीमें लगी हैं, जिनमें 140 जवान हैं। एसडीआरएफ की चार टीमों में 200 जवान हैं। इसी तरह पुलिस के करीब 200 और 150 दमकलकर्मियों ने मोर्चा संभाला। सभी विभागों के अफसरों की निगरानी में पूरा ऑपरेशन चला। अयोध्या, हरदोई, उन्नाव, सीतापुर व रायबरेली से भी दमकल बुलाई गई। टीमों को शिफ्ट से ऑपरेशन में लगाया गया।

अलाया अपार्टमेंट के 12 में से 11 फ्लैट अब भी बिल्डरके नाम दर्ज

अवैध अलाया अपार्टमेंट पर नगर निगम भी कम मेहरबान नहीं रहा है। अपार्टमेंट से एक सपा नेता का नाम जुड़ा है। ऐसे में नगर निगम ने भी 12 सालों से इससे टैक्स नहीं वसूला है। इतना ही नहीं जिन्हें फ्लैट बेचे गए, इसकी जानकारी भी नहीं दी गई है। कुल 12 में से 11 फ्लैट अब तक अलाया अपार्टमेंट के नाम पर ही नगर निगम के रिकॉर्ड में दर्ज हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *